हवा के पास कोई मसलहत नहीं होती

Monday, May 11, 2015


21.10.14
चराग़ घर का हो ,महफ़िल का हो कि मंदिर का
हवा के पास कोई मसलहत नहीं होती .....
- वसीम साब

No comments:

Powered by Blogger.